Ads

दिलदहला दिया ईस घटना ने सबका, बड़ी-बड़ी ईमारतें बिल्डिंग व्यवसायिक काम्प्लेक्स शापिंग मॉल होटल रेस्टोरेंट मे न सुरक्षा के प्रावधान न आधुनिक फायर सिस्टम

 








  बड़ी-बड़ी ईमारतें बिल्डिंग व्यवसायिक काम्प्लेक्स शापिंग मॉल होटल रेस्टोरेंट मे न सुरक्षा के प्रावधान न आधुनिक फायर सिस्टम अमानक लिफ्ट तंग सीढियां भवन निर्माण नियम को ताक मे रख कर आखिर कैसे हो जाते ये निमार्ण


गुजरात के राजकोट शहर के कालावड रोड पर स्थित TRP गेम जोन में शनिवार शाम 4.30 बजे भीषण आग लग गई. हादसे में 12 बच्चों समेत 30 लोगों की मौत हो गई. 25 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला गया.

अभी भी मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है, क्योंकि यह पता नहीं है कि आग लगने के वक्त गेम जोन में कितने लोग मौजूद थे. मृतकों के शव इतनी बुरी तरह झुलसे हैं कि उनकी शिनाख्त नहीं हो सकी है. पहचान के लिए DNA टेस्ट किया जाएगा. आग पर 3 घंटे में काबू पाया गया.

गेम जोन में आग लगने के कारणों में यह भी सामने आया है कि गेम जोन में करीब 3500 लीटर डीजल-पेट्रोल स्टोर करके रखा गया था. साथ ही इसका डोम भी कपड़े और फाइबर से बना था. इसलिए आग तेजी से फैली. हादसे के लिए गेम जोन के मालिकों में से एक यशराज सोलंकी और मैनेजर को गिरफ्तार कर लिया गया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सीढ़ियों पर वेल्डिंग करते वक्त धमाका हुआ और एक मिनट में आग तीसरी मंजिल तक फैल गई. हालांकि, प्रशासन ने आग लगने की वजह नहीं बताई है.


गेम जोन में रबड़-रेक्सिन का फर्श, लगभग 2500 लीटर डीजल का स्टोरेज, कार ट्रैक के किनारे रखे टायर और शेड में लगे थर्मोकोल शीट की वजह से कुछ मिनटों में पूरा गेम जोन भट्टी में बदल दिया और कुछ घंटों में खाक हो गया.



तीन मंजिला स्ट्रक्चर में नीचे से ऊपर जाने के लिए केवल एक सीढ़ी थी. आग नीचे से ऊपर तक फैल गई. दूसरी और तीसरी मंजिल के लोगों को भागने का मौका नहीं मिला.



मौके पर मौजूद यश पटोलिया ने कहा, ‘हम लोग रेस्टोरेंट में बैठे थे. तभी वहां आग लग गई. आग 30 सेकेंड में ही पूरे एरिया में फैल गई थी.’ एक अन्य व्यक्ति ने बताया कि गेम जोन में कई जगह रिपेयरिंग और रेनोवेशन का काम भी चल रहा था. काफी संख्या में प्लाई के टुकड़े और लकड़ियां भी इधर-उधर फैली हुई थीं. यह भी आग की चपेट में आए और आग फैलती चली गई.’


पुलिस के मुताबिक, TRP गेम जोन के पास फायर एनओसी तक नहीं थी. राजकोट पुलिस कमिश्नर राजू भार्गव ने बताया कि TRP गेम जोन के मालिक और मैनेजर सहित दो अन्य लोगों को हिरासत में लिया गया है. पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है. सरकार ने जांच के लिए SIT गठित की है.


गेम जोन हादसे में मारे गए लोगों की पहचान के लिए 25 DNA सैंपल गांधीनगर भेजे गए. इनकी रिपोर्ट 48 घंटे बाद आएगी. AIIMS में 16 शवों को कोल्ड स्टोरेज में रखा गया है. जबकि सिविल हॉस्पिटल में 11 शव रखे गए हैं.


मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल और गृह मंत्री हर्ष सांघवी TRP गेमिंग जोन अग्निकांड में घायल लोगों से मिलने राजकोट AIIMS हॉस्पिटल पहुंचे.

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.